रहिकवारा का अपहरण और हत्या का बहुचर्चित मामला: नाबालिग के हत्या के आरोपियों को अदालत ने सुनाई मौत की सजा

September 15th, 2021

डिजिटल डेस्क  सतना। फिरौती के लिए घर के बाहर खेल रहे 6 वर्षीय मासूम का अपहरण कर हत्या कर देने के एक मामले में अदालत ने सुनवाई के बाद आरोपी अनुताब उर्फ बेटा प्रजापति पिता बुलाई और विभा प्रजापति पत्नी श्यामचरण प्रजापति निवासी रहिकवारा को भादवि की धारा 364ए, 120बी, 302 और 201 का अपराध करने का दोषी ठहराते हुए फांसी की सजा सुनाई  है । नागौद के अपर सत्र न्यायाधीश विजय डांगी की अदालत ने कल मंगलवार को सुनवाई पूरी करते हुए आरोपियों को सजा सुनाए जाने के लिए आज बुधवार का दिन मुकर्रर किया था। आरोपी जेल में है बंद और उन्हें वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्सम से सजा सुनाई गई है ।
ये है मामला —-
एजीपी राजेश मिश्रा ने बताया कि 12 मार्च 2019 की शाम 6 वर्षीय शिवकांत उर्फ लल्ली घर के बाहर खेल रहा था, जिसका आरोपियों ने अपहरण कर लिया। शाम करीब 5 बजे अपहृत के चाचा इंद्रजीत के मोबाइल में आरोपियों ने फोन कर 2 लाख रुपए की फिरौती मांगी। परिजनों ने बच्चे की तलाश शुरू की, नहीं मिलने पर नागौद थाने में रिपोर्ट दर्ज कराया। थाना पुलिस ने मोबाइल नंबर के आधार पर जांच प्रारंभ किया और आरोपी अनुताब उर्फ अनुताभ की निशानदेही पर अपहृत की लाश रहिकवारा में डबरा से बरामद की। आरोपी ने फिरौती के लिए विद्या प्रजापति के सिम का उपयोग किया और इसके बदले में उसने 10 हजार रुपए का भुगतान किया। पकड़े जाने के डर से फिरौती मिलने के पहले ही आरोपियों ने रस्सी से गला घोटकर अपहृत की हत्या कर दी। आरोपियों ने सबूत मिटाने के लिए अपहृत की लाश बोरी में भरकर डबरा में फेंक दिया। 
 

खबरें और भी हैं...