danik bhaskar
Monday, 23 January, 2017
Updated
State » maharstra

राज ठाकरे बोले- सरकार के इशारे पर काम करते हैं ओवैसी, दंगा कराना चाहती है बीजेपी

By bhaskarhindi.com | Publish Date: Aug 11 2015 4:12PM | Updated Date: Aug 11 2015 4:12PM

मुंबई.
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना सुप्रीमो राज ठाकरे ने सोमवर को केंद्र व राज्य सरकार पर जोरदार हमला बोला। राज ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि ओवैसी बंधु सरकार के इशारे पर भड़काऊ बयान देते हैं, जिससे लोगों की भावनाएं भड़के और दंगा हो। सरकार उनके खिलाफ मामला दर्ज नहीं करती। इसके पीछे वोट बैंक के रूप में सत्ताधारियों को फायदा पहुंचाने की मंशा होती है। उन्होंने दावा किया कि दोनों को सरकार का आशीर्वाद प्राप्त है। उन्होंने कहा कि 1993 मुंबई धमाकों के लिए दोषी करार दिए गए याकूब मेमन की फांसी का ड्रामा बनाया गया। न्यायालय द्वारा दोषी करार दिए जाने के बावजूद कुछ लोग उसके प्रति सहानभूति दिखा रहे थे। वे ठाणे में पार्टी पदाधिकारियों को संबोधित कर रहे थे।
फड़णवीस को काम करने नहीं देती केंद्र सरकार
मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस स्वच्छ छवि के हैं। वह ईमानदारी से काम करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उनको केंद्र सरकार काम करने नहीं दे रही। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि वे बोलते ही नहीं हैं। मोदी पहले तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को कहते थे कि वह मौन रहते हैं, लेकिन अब मोदी खुद मौनी बाबा की तरह नजर आते हैं।
राज्य में सरकार बदली, परिस्थितियां नहीं
राज ने राज्य सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि राज्य में सरकार बदली है, लेकिन परिस्थतियां नहीं। केवल चेहरे बदले हुए नजर आते हैं। किसान आत्महत्या, सिंचाई, टोल, भ्रष्टाचार के मुद्दे आघाड़ी सरकार के समय भी थे। अब सरकार बदलने के बाद भी यही मुद्दे हर रोज सामने आते हैं। उन्होंने दावा किया कि सरकार के एक विभाग में तबादले के लिए 100 करोड़ रुपए से अधिक का लेन-देन हुआ है।

पुरंदरे को लेकर राकांपा की राजनीति की निंदा
राज ने कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस के कुछ नेता इतिहासकार बाबासाहब पुरंदरे को लेकर राजनीति पर उतारू हो गए थे। बाबा साहब ने अपना पूरा जीवन महाराष्ट्र के लिए लगा दिया। लेकिन उनके खिलाफ राजनीति करने वाले लोग अपना इतिहास भूल जाते हैं। जब से राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी अस्तित्व में आई है, तब से ऐसा होने लगा है, क्योंकि वोट बैंक को ध्यान में रखते हुए लोग बयानबाजी करते हैं।

danik bhaskar