danik bhaskar
Wednesday, 29 March, 2017
Updated

मुंबई : एक सत्र अदालत ने शुक्रवार को यहां शहर की एक मॉडल से छेड़छाड़ और बलात्कार के आरोपी महाराष्ट्र के निलंबित पुलिस उप महानिरीक्षक सुनील पारस्कर को आरोपमुक्त कर दिया। विशेष लोक अभियोजक प्रदीप घरात ने कहा, ‘अदालत ने (2014) मामले से पारस्कर को आरोपमुक्त कर दिया।’ घरात ने कहा कि वह आदेश को चुनौती देते हुए बंबई उच्च न्यायालय में अपील दायर करेंगे। आईपीएस अधिकारी ने मुंबई पुलिस द्वारा इस साल मई में उनके खिलाफ 724 पृष्ठों का आरोपपत्र दायर करने के बाद आरोपमुक्त करने के अनुरोध वाली याचिका दायर की थी। जुलाई 2014 में मालवानी पुलिस ने पारस्कर के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं 376 (2) (एक पुलिस अधिकारी द्वारा बलात्कार), 376 सी (जेल, सुधार गृह आदि के अधीक्षक द्वारा यौन संबंध), 354 डी (पीछा करना) के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी। शिकायतकर्ता 25 वर्षीय मॉडल ने आरोप लगाया था कि पारस्कर (57) ने दिसंबर 2013 में दो बार छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़न किया था। उसका कहना है कि वह वर्ष 2012 में एक मामले के संबंध में पारस्कर से उस समय मिली थी जब वह अतिरिक्त पुलिस आयुक्त थे। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी। अगस्त 2014 में महिलाओं से जुड़े मामलों की एक विशेष अदालत ने पारस्कर को अग्रिम जमानत देते हुए कहा था, ‘शिकायतकर्ता के व्यवहार और उसके ई-मेलों से ऐसा लगता है कि कृत्य रजामंदी के साथ किया गया।’

danik bhaskar