danik bhaskar
Monday, 23 January, 2017
Updated

मुंबई, ब्यूरो | बॉम्बे हाईकोर्ट में मंगलवार काे हाजी अली दरगाह में महिलाओं के प्रवेश पर लगी रोक के खिलाफ दायर जनहित याचिका पर सुनवाई हुई। इस दौरान न्यायमूर्ति वीएम कानडे व न्यायमूर्ति रेवती मोहिते ढेरे की खंडपीठ ने कहा- असहिष्णुता का मामला गर्म है। यदि वे धर्म से जुड़े इस मामले में कुछ तय करते हैं तो इसका दूसरा अर्थ निकाला जाएगा। जब मामला धर्म से जुड़ा हो तो लोग ज्यादा संवेदनशील हो जाते है। खंडपीठ ने मामले से जुड़े पक्षकारों को कहा-वे न्यायालय के बाहर इस मामले को सुलझाने का प्रयास करे। खंडपीठ ने फिलहाल मामले की सुनवाई 15 दिसंबर तक के लिए स्थगित कर दी है। और ट्रस्ट को अगली सुनवाई के दौरान ट्रस्ट डीड की प्रति पेश करने को कहा है। हाजी अली दरगाह ट्रस्ट ने महिलाओं के दरगाह के एक हिस्से में प्रवेश पर पाबंदी लगाई है। इसके खिलाफ सामाजिक कार्यकर्ता नूरजहां नियाज ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की है।

danik bhaskar