danik bhaskar
Wednesday, 29 March, 2017
Updated

मुंबई/ पटना. महाराष्ट्र व केंद्र की भाजपा-नीत सरकारों में शामिल एनडीए के प्रमुख घटक दल शिवसेना ने रविवार को बिहार विधानसभा चुनाव अकेले लड़ने का ऐलान कर दिया। पार्टी प्रवक्ता एवं सांसद संजय राऊत ने कहा कि राज्य विधानसभा की 243 में से 150 से अधिक सीटों पर हम अपने उम्मीदवार उतारेंगे। राऊत ने पार्टी कार्यकर्ताओं के सम्मेलन के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘शिवसेना ने बिहार विधानसभा चुनाव को गंभीरता से लिया है। अपने दम पर हमारी तैयारी 150 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ने की है।’
उन्होंने कहा कि उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया लगभग पूरी हो चुकी है। उम्मीदवारों की पहली सूची सोमवार को जारी कर दी जाएगी। यह भी कहा कि बिहार में उनकी पार्टी हिंदुत्व, गरीबी उन्मूलन व रोजगार सृजन के एजेंडे पर चुनाव लड़ेगी। शिवसेना के अकले चुनाव लड़ने के सवाल पर राऊत ने कहा कि उनकी पार्टी हिंदी भाषी प्रदेशों में अपना जनाधार बढ़ाना चाहती है और लोगों को ताकत देना चाहती है।
समाज के लिए खतरा है ओवैसी की राजनीति
असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के चुनावी मैदान में उतरने के सवाल पर राऊत ने कहा कि ‘अमृत’ के साथ ‘जहर’ की कोई चर्चा नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राजनीति में ऐसे दांवपेच चलते रहते हैं। चुनावी नतीजे सामने आने पर इसका खुलासा हो जाएगा। आवैसी जैसे लोगों की राजनीति अगर इस देश व समाज में बढ़ेगी तो देश एकबार फिर टूटेगा।
क्या फैसले की ये है वजह!
महाराष्ट्र में सरकार में होने के बावजूद कुछ मुद्दों पर शिवसेना व भाजपा में टकराव देखने को मिलता है। भाजपा पर दबाव बनाने के मौके भी शिवसेना नहीं छोड़ना चाहती। जानकारों का मानना है कि शिवसेना यह जानती है कि अंदरूनी तौर पर भाजपा व ओवैसी के बीच कहीं न कहीं मैत्रीपूर्ण संबंध हैं और ओवैसी के बहाने भाजपा को घेरना आसान होगा।
क्या होगा असर
शिवसेना को हिंदुत्व व विकास के नाम पर ज्यादा वोट मिलना मुश्किल हैं। उसके खिलाफ मुंबई में उत्तर भारतीयों के विरोध का मुद्दा भी हावी होगा। उनको उम्मीदवारों की व्यक्तिगत छवि के आधार पर ही वोट मिलेंगे। हिंदू वोट बंटते हैं तो भाजपा को कुछ सीटांे पर नुकसान हो सकता है।
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सत्ता के लोभ के लिए लालू प्रसाद यादव से हाथ मिलाया है। जिस दिन इन दोनों ने हाथ मिलाया था, उसी दिन तय हो गया था कि बिहार में भाजपा की सत्ता आएगी। - राजीव प्रताप रूडी, केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा नेता (मुंबई में)

danik bhaskar