danik bhaskar
Thursday, 23 February, 2017
Updated

फाइल फोटो

भिण्ड/ग्वालियर : मध्यप्रदेश के भिंड जिले की एक अदालत ने रिश्वत लेने के आरोपी सहायक पुलिस निरीक्षक(ASI) को दोहरी सजा सुनाई है। एएसआई ठेले वालों से ठेले लगाने के ऐवज में पैसे मांग रहा था, जिसकी शिकायत एक ठेले वाले ने लोकायुक्त पुलिस से कर दी। भिण्ड जिला न्यायालय के विशेष न्यायाधीश(भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम) ओपी सुनरिया की अदालत ने पुलिस के ASI रामलखन दौहरे को रिश्वत मांगने के आरोप में 3 साल और रिश्वत लेने के आरोप में 4 साल की सजा सुना दी है। अदालत ने इस सजा के अतिरिक्त 5-5 हजार रुपए का जुर्माना भी किया है। सजा का आदेश होते ही एएसआई को भिण्ड जेल भेज दिया गया है।

सहायक जिला अभियोजन अधिकारी सुरेन्द्र बरेलिया ने बताया कि फरियादी शकील मोहम्मद चार पहिए का ठेला लगाकर परिवार का भरण पोषण करता है। शहर कोतवाली में पदस्थ एएसआई रामलखन दौहरे 16 जुलाई 2014 को शकील के ठेले पर आया और उससे वहां लगने वाले प्रत्येक ठेले वाले से 20 रुपए के हिसाब से 1,000 रुपए प्रतिदिन देने की मांग की। ऐसा न होने पर उसने ठेले नहीं लगने देने की धमकी देते हुए ठेले वालों को कानूनी कार्रवाई में फंसाकर परेशान करने की बात कही। आर्थिक रुप से कमजोर शकील ने हिम्मत दिखाते हुए एएसआई की शिकायत ग्वालियर लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक से की, जिसके बाद लोकायुक्त टीम ने जाल बिछाकर कार्रवाई करते हुए 18 जुलाई को एएसआई को रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। 
danik bhaskar