danik bhaskar
Monday, 23 January, 2017
Updated

इंदौर : कथावाचक संत अवधेशानंद गिरी ने ग्लोबल वार्मिंग से जुड़ी चुनौतियों पर चिंता जताते हुए कहा कि इसके लिए मुख्य रूप से विकसित माने जाने वाले पश्चिमी राष्ट्र जिम्मेदार हैं। गिरी ने इंदौर में पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा कि यह समस्या भविष्य के लिए खतरा है और इसके मद्देनजर पर्यावरण संरक्षण के साथ ही जल के बचाने के लिए काम होना चाहिए। उन्होंने कहा कि पर्यावरण और जल संरक्षण के प्रति सभी को संवेदनशील होना चाहिए। उज्जैन में इस वर्ष आयोजित होने वाले सिंहस्थ महाकुंभ की तैयारियों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि तैयारियां संतोषजनक हैं। गौहत्या के संबंध में उन्होंने कहा कि यह प्रवृत्ति संपूर्ण विनाश की ओर इशारा करती है। 
danik bhaskar