danik bhaskar
Thursday, 23 February, 2017
Updated

गुना/ग्वालियर : मध्यप्रदेश के अशोकनगर जिले में विलुप्त हो रही गिद्धों की गिनती डिजिटल मैपिंग से की जाएगी। जिले के चंदेरी तहसील की गिद्धखल पहाड़ी गिद्धों की प्रजाति का आवास क्षेत्र है। एक अनुमान के मुताबिक, गिध्दखल की पहाड़ियों में करीब 5 से 6 गिद्ध मौजूद हैं। इस पहाड़ी सहित जिले के अन्य स्थानों पर आगामी 23 जनवरी को डिजिटल मैपिंग के माध्यमों से गिद्धों की गिनती की जाने की योजना है। चंदेरी वन क्षेत्र के रेंजर वीरेंद्र सिंह धाकड़ ने बताया कि गिद्धों की गिनती के लिए 24 दिसंबर को शिवपुरी वन क्षेत्र में प्रशिक्षण भी दिया गया है। गणना सुबह 9 बजे के पहले की जाएगी। गणना मे गिद्ध की प्रजाति का उल्लेख किया जाएगा। गणना अलग-अलग वनक्षेत्र के कर्मचारियों द्वारा ही की जाएगी, जरूरत पड़ने पर बाद में विशेषज्ञों को बुलाया जाएगा।

साल में 2 बार, जनवरी एवं मई में गिद्धों की गणना की जाती है। धाकड़ के अनुसार, देश में गिद्ध की अलग-अलग 9 प्रजातियां सफेद, चमर, देशी, राज, हिमालयी, यूरेशियाई, काला, पतलचोंच व जटायु गिद्ध पाई जाती हैं। जिले में अब तक राजगिद्ध, चमरगिद्ध और सफेद गिद्ध ही देखे गए हैं।
danik bhaskar