danik bhaskar
Monday, 23 January, 2017
Updated

रायपुर/बिलासपुर : उत्तर पूर्वी रेल यात्री संघ ने दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबन्धक के माध्यम से रेल मंत्री सुरेश प्रभु को ज्ञापन देकर 18205/18206 दुर्ग नवतनवा एक्सप्रेस का फेरा एक दिन बढ़ाए जाने तथा रायपुर लखनऊ गरीब रथ को दो दिन वाया इलाहाबाद सुलतानपुर चलाए जाने की मांग की है। उत्तर पूर्वी रेल यात्री संघ के अध्यक्ष आर.एन.सूर्यवंशी के नेतृत्व में संघ के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज यहां दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबन्धक सत्येन्द्र कुमार से मुलाकात कर 18205/18206 दुर्ग नवतनवा एक्सप्रेस का फेरा एक दिन बढ़ाए जाने की मांग की।उन्होने कहा कि पूर्वी उत्तरप्रदेश के प्रतापगढ़,सुलतानपुर,फैजाबाद,बस्ती समेत कई जिलों के छत्तीसगढ़ में नौकरी एवं व्यवसाय कर रहे लोगो तथा राज्य के धार्मिक यात्रा पर अयोध्य़ा जाने वाले लोगो के लिए यह इकलौती ट्रेन है। सप्ताह में महज एक दिन ही इस ट्रेन के चलने से लोगो को भारी परेशानी हो रही है। उन्होने महाप्रबन्धक को बताया कि इस ट्रेन में लगभग हमेशा नो रूम की स्थिति बनी रहती है।इसका कम से कम एक दिन फेरा औऱ बढ़ाया जाना चाहिए।उन्होने रायपुर लखनऊ गरीब रथ को सप्ताह में दो दिन वाया इलाहाबाद सुलतानपुर चलाए जाने,दुर्ग कानपुर बेतवा एक्सप्रेस को वाया लखनऊ अयोध्या तक विस्तार किए जाने की मांग की।प्रतिनिधिमंडल ने दुर्ग नवतनवा एक्सप्रेस के दुर्ग से परिचालन समय में भी परिवर्तन की मांग करते हुए इसे दोपहर में चलाए जाने की मांग की। प्रतिनिधिमंडल ने रेलवे आरक्षण के 120 दिनों में शुरू होने की मौजूदा व्यवस्था को पूरी तरह से आव्यहारिक करार देते हुए कहा कि आज के दौर में चार माह पहले यात्रा की तैयारी करना बहुत मुश्किल कार्य है।अब रेलवे ने टिकट रद्द करवाने का शुल्क भी दोगुना कर दिया है।रेलवे दलालों पर अकुंश के लिए टिकट रद्द करवाने में शुल्क बढ़ाने का तर्क देता है जोकि गलत है।उन्होने आरक्षण की तिथि 120 दिन से घटाकर 30 दिन करने की मांग की। अध्यक्ष श्री सूर्यवंशी के अनुसार महाप्रबन्धक ने 18205/18206 दुर्ग नवतनवा एक्सप्रेस का फेरा एक दिन बढ़ाए जाने की मांग को अपनी संस्तुति सहित रेलवे बोर्ड को भेजने का भरोसा दिलाया है।उन्होने आरक्षण दिन में कमी समेत अन्य मांगों को भी रेलवे बोर्ड को भेजने का भरोसा दिलाया है।प्रतिनिधिमंडल ने दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से मुलाकात कर अपनी मागों का ज्ञापन सौंपा।

danik bhaskar