danik bhaskar
Wednesday, 29 March, 2017
Updated

रायपुर : मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ राज्य कौशल विकास प्राधिकरण के शासी निकाय की बैठक लेने के बाद छत्तीसगढ़ राज्य के युवाओं को सुरक्षा गार्ड का तकनीकी प्रशिक्षण दिलाने के लिए झारखण्ड और पश्चिम बंगाल की तर्ज पर राष्ट्रीय स्तर के संस्थान की स्थापना जल्द करवाने की घोषणा की है।
उन्होंने इसके लिए अधिकारियों को कार्ययोजना जल्द प्रस्तुत करने के लिए कहा है । डॉ. सिंह ने अधिकारियों को प्रदेश की जेलों में निवासरत कैदियों के कौशल प्रशिक्षण के लिए भी कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए। CM ने कहा कि प्रशिक्षित सुरक्षा गार्डों के निजी क्षेत्र के संस्थानों में अच्छी मांग है। प्रशिक्षित होने के बाद युवाओं को रोजगार के अच्छे अवसर मिल सकेंगे। उन्होंने कहा कि झारखण्ड और पश्चिम बंगाल की तर्ज पर लगभग 50 एकड़ में इस केन्द्र की स्थापना की जानी चाहिए, जहां प्रदेश के युवाओं के साथ-साथ अन्य राज्यों के युवा भी सुरक्षा गार्ड का प्रशिक्षण प्राप्त कर सकें।
बैठक में बस्तर संभाग के सभी जिलों में युवाओं के कौशल उन्नयन के लिए प्रशिक्षण की विशेष कार्ययोजना तैयार करने और विशेष प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित करने, सभी जिलों में युवाओं के कौशल उन्नयन के लिए प्रशिक्षण केन्द्रों की स्थापना और विशेष पिछड़ी जनजातियों पहाड़ी कोरवा, कमार, बैगा, बिरहोर, अबूझमाड़िया, पण्डो और भुंजिया जनजातियों के युवाओं के लिए भी विशेष प्रशिक्षण केन्द्र स्थापित करने का निर्णय लिया गया।
मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के अंतर्गत कार्यरत रोजगार समन्वयकों को भी एकाउण्ट और कम्प्यूटर का प्रशिक्षण चरणबद्ध रूप से दिया जाना चाहिए। इनके प्रशिक्षण कार्यक्रम बरसात के दौरान जब पंचायतों में काम कम रहते हैं, तब आयोजित किए जाएं।

danik bhaskar