danik bhaskar
Monday, 23 January, 2017
Updated

जगदलपुर:  छत्तीसगढ में नक्सली हमलों का जवाब अब छत्तीसगढ़ पुलिस एके 47 से नहीं बल्कि अचूक मारक इजरायली हथियारों से देगी। इसके लिए पुलिस को आधुनिक तकनीकों से लैस एक्स-95 हथियार से सुसज्जित किया जाएगा। माओवादियों से मुकाबले में यह यूजीबीएल हथियार से अधिक कारगर और प्रभावी साबित होगा। आधिकारिक जानकारी के अनुसार बस्तर में माओवादी आधुनिक हथियार एके-47 और इंसास जैसे हथियारों से लैस रहते हैं। ऐसे में माओवादियों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए एक्स 95 हथियार के प्रयोग से केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और पुलिस जवानों को मजबूती मिलेगी। वर्तमान में माओवादियों से मुकाबला करने में जवानों के पास यूजीबीएल हथियार है, लेकिन मुठभेड़ के बाद यूजीबीएल हथियार माओवादियों ने लूट लिये थे। इसके बाद माओवादी सशक्त होते दिखाई दिये। उनके मंसूबों पर पानी फेरने छत्तीसगढ पुलिस बल ने अहम कदम उठाते हुए जवानों को एक्स 95 से लैस करने का फैसला लिया है। देश में आधुनिक 12 हजार एक्स 95 की मांग की गई है, जिन्हें माओवादी राज्यों में पुलिस जवानों को और सशक्त बनाने के लिए दिया जाएगा। यहां यह उल्लेख करना लाजिमी होगा कि फिलहाल अभी यूजीबीएल और एकके 47 के सेवन से ही माओवादियों को नेस्तनाबूद किया जा रहा है। एक्स 95 एक अतिआधुनिक हथियार है, इसे चलाने के लिए प्रशिक्षण की आवश्यकता है। अभी कुछ स्थानों पर ही एक्स 95 हथियारों का प्रयोग किया जा रहा है। बस्तर आईजी एसआरपी कल्लूरी ने बताया कि एक्स 95 की मारक क्षमता 25 से 300 मीटर तक होती है। यह शूटिंग के पहले किसी चीज को टारगेट करता है तो, लैंस से देखकर हथियार में लगे क्वालीमीटर यालेजर साइट से सीधे निशाना साधा जा सकता है। इस हथियार से रात में भी निशाना साधा जा सकता है। लैंस और लेजर के जरिए निशाना सटीक लगने की गारंटी है। इस हथियार का उपयोग करने पर मामूली सी आवाज होती है, फिलहाल माओवादियों के पास इसका कोई विकल्प नहीं है।

danik bhaskar